वजन कम करने के 5 योग आसन

1388 views
“एक प्राचिन भारतीय अनुशासन के रूप में योग एक जीवनशैली है जो मन, शरीर और आत्मा को लाभ पहुंचाने के लिए जाना जाता है, पर क्या आप जानते हैं कि यह आपके वजन को कम करने में भी सहायक होता हैं?” चलिए हम आपको बताते हैं कैसे योग वज़न कम करने में सहायक होते हैं।

योग के बारे में पहले ही बहुत कुछ कहा और भारतीय धार्मिक कथाओं में लिखा जा चुका है, जिसके अनुसार ऐसा माना जा है कि योग का प्रारंभ वर्षो पहले पूर्व-वैदिक काल में हुआ था। चलिए अब 21वीं सदी में लौटते हैं, आजकल योग का अभ्यास इसके मन, शरीर और आत्मा पर होने वाले अच्छे प्रभाव की वजह से पूरी दुनिया में किया जा रहा है, इसके अवाला लोगो का ऐसा मानना भी है कि योग के निरंतर अभ्यास से जीवन को शांति और स्वास्थ्य के साथ जिया जा सकता है। अलग-अलग लोग योग आसन के मन, शरीर और आत्मा पर पड़ने वाले अलग-अलग अच्छे प्रभाव के बारे में बताते हैं। पर क्या आपको पता है, आप वजन कम करते के लिए भी योग आसन पर निर्भर रह सकते हैं?

योग वजन कम करने का एक बेहतरीन तरीका है अगर इसे सही रूप से निरंतर किया जाए और हाँ योग करना इसलिए भी आसान है क्योंकि इससे जोड़ो पर कम दबाव पड़ता है और किसी तरह के नुकसान का डर नहीं होता विशेष रूप से शुरूआती दौर में जब आप योग किसी अनुभवी ट्रेनर की देख-रेख में करते है।

वजन कम करने के लिए योगासन की शुरूआत में आपको आरामदेह कपड़े, एक योग चटाई और मजबूत इच्छा शक्ति की जरूरत होगी ताकि आप अतिरिक्त किलो वजन बाहर निकाल सकें। इस तरह आप योग के लिए तैयार हैं। पेट का वजन कम करने के लिए हम आपके लिए 5 श्रेष्ठ योग आसन लाए हैं। 

कपाल भांति प्राणायम

वजन कम करने के लिए शुरूआत में कौन सा योग व्यायम बेहतर होगा? जी! शुरूआत में ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ ही निश्चित रूप से बेहतर है। कपाल भांति प्राणायम ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ का एक रूप है जो आपके शरीर में ऑक्सिजनेटिंग में मददगार होता है  साथ ही आपके पेट के आस पास के मसल्स को मजबूत बनाता है। अगर आपका पेट बाहर निकला हुआ है तो यह आपके लिए श्रेष्ठ योग पोज़ है, यह मोटापा घटाता है और पाचन क्रिया को भी बेहतर बनाता है।

कपाल भांति का अभ्यास कैसे करें

  • योग चाटाई पर आराम से बैठें, अपनी रीढ़ को सीधा रखें और हथेलियों को घुटनो पर रखें।
  • नाक से सांस छोड़े और पेट अंदर की ओर खींचे
  • जैसे ही आप पेट के मसल्स को ढ़ीला करेंगे आप अपने आप ही सांस लेना शुरू कर देंगे
  • फिर तुरंत आप पेट के मसल्स को टाईट करें और सांस छोड़ें
  • यहां आपके पेट के मसल्स का सांस छोड़ने और लेने के दौड़न व्यायाम हो जाता है।
  • शुरूआत में इस 50 बार दोहराएं और फिर इसे अपनी सुविधा अनुसार धीरे धीरे बढ़ाएं

 खतरा

शुरुआत में पेट के आसपास के मसल्स में दर्द आना समान्य बात है आप चिंतित ना हो। फिर भी अगर आप हर्निया, हृदय रोग या उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं तो प्राणायाम का त्याग करें।  

कपाल भांति प्राणायम

अर्ध मत्स्यन्द्रासन- हाल्फ स्पाइन ट्वीस्ट 

यह आसन आपके लंग्स की क्षमता को बढ़ाता है ताकि आपके लंग्स ज्यादा लंबी सांस ले सके और ज्यादा ऑक्सिजन शरीर में आए। वजन कम करने के लिए अर्ध मत्स्यन्द्रासना स्पाइन को स्ट्रेच करता है जिससे की जांघ और पेट के मसल्स सही आकार में आने लगते हैं। यह आपके पाचन क्रिया को भी बढ़ाता है, पाचन क्रिया बढ़ने से खाना जल्दी पचता है और इससे वजन कम होने में मदद मिलती है।  

अर्ध मत्स्यन्द्रासना का अभ्यास कैसे करें

  • अपने सामने पैरों को फैलाकर सीधा बैठें। अपने पैरों को एक साथ रखें और स्पाइन को सीधा रखं।
  • अपने बांए पैर को मोड़े और एड़ी को बांए पैर के बगल में राइट हिप के पास रखें।
  • अब, अपने दाएं पैर को बाएं घुटने पर रखें और अपने बाएं हाथ को दाहिने घुटनें पर रखें। अपने दाएं हाथ को अपने पीछे रखें। 
  • अपने कमर, कंधे और गर्दन को एक साथ अपनी दांयी ओर मोड़े फिर दाएं कंधे को झूकाएं
  • इस पोज़िशन को कुछ छण के लिए रोके फिर धिरे-धिरे इसे सांस लेते और छोड़ते हुए दोहराते रहें  
  • अपनी शुरूआती स्थिति में आने के लिए सांस छोड़े और पहले दायां हाथ सिधा करें (हाथ जो आपके पीछे था), फिर कमर को सीधा करें, अब छाती और अंत में गर्दन को सीधा करें। कुछ देर आराम से सीधा बैठें। अब इसे दुबारा दूसरी तरफ दोहराएं।

खतरा

अगर आप पीठ या स्पाइन चोट से ग्रसित है तो आप इस व्यायाम को ना करें या फिर किसी अनुभवी सर्टीफाईड ट्रेनर के गाईडेन्स में इसे करें।

अर्ध मत्स्यन्द्रासना

कुभांकासन- प्लैंक पोज़

कुभांकासना व्यायाम आपके बांह, कंधे, पीठ, बटोक्स, जांघ और ऐब्स को ना सिर्फ मजबूत बनाता है बल्कि इसके फैट भी कम करता है। अगर इसका अभ्यास सही से किया गया तो आपका वज़न बहुत जल्दी कम हो जायेगा और साथ ही यह पूरे शरीर की कसरत को पूरा कर देता है। 

कुभांकासना का अभ्यास कैसे करें

  • अपनी योग चटाई पर पेट के सहारे सीधे लेट जांए।
  • अपनी हथेलियों को चेहरे के सामने रखें और फिर अपने पैर को इस तरीके से मोड़ना शुरू करें कि आपके टोज़ ज़मीन की ओर जाने लगे।
  • अपने हाथों को खींचे और बटोक्स को हवा में ऊठाएं।
  • इस दौरान आपके पैर फ्लोर पर जितना हो सके सीधे होने चाहिए और गर्दन ढीला रखें। यहां सांस लेते वक्त अपने टोर्सो को नीचे करें ताकि आपके हाथ फ्लोर के लंबवत हो जाए और कंधे और छाती आपके हाथों के ऊपर आ जाए। याद रंखे आपको अपनी अंगुलियों को फैलने से रोकना है, इनहें एक साथ रखें। आपको महसूस होगा कि आपके पेट के मसल्स टाईट हो रहें हैं। इस पोज़ को जितना लंबा आप रख सकें रखें। 
  • इस पोज़ से बाहर आने के लिए सांस ले और धीरे-धीरे अपने शरीर को फ्लोर की ओर नीचे करें(जैसे आप पुशअप से बाहर आते हैं)। 

खतरा

अगर आप कंधो की चोट या फिर उच्च रक्तचाप से ग्रसित हैं तो इस व्यायाम को ना करें।

कुभांकासन- प्लैंक पोज़

उत्तनासन- फॉर्वर्ड बेंडिंग पोज़

इस आसन में आप अपने हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच कर सकते हैं साथ ही पेट के मसल्स पर दबाव बना सकते हैं। इस व्यायाम को सही ढ़ंग से करने पर आप खून को सर तक पहुंचा सकते हैं जिससे कि आपके शरीर का नर्वस सिस्टम सिमपैथेटिक से पैरासिमपैथेटिक की तरफ चला जाता है। इससे शरीर को आराम मिलता है। 

उत्तनासना को कैसे करें

  • इस आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हों।
  • अपने हाथों को सांस लेते हुए सर के ऊपर की ओर ऊठाएं
  • अब अपने बटोक्स को पीछे की ओर ठेलते हुए अपने शरीर को तब तक झूकाएं जबतक कि आपका सिर घुटने को ना छू दे। 
  • फिर आप धीरे-धीरे सीधे खड़े हो जाए, फिर इस आसन को दोहराते जाएं।

खतरा

जो लोग किसी भी तरह की पीठ की चोट से ग्रसित हैं वे इस योग आसन को ना करें।

उत्तनासन- फॉर्वर्ड बेंडिंग पोज़

वसिष्ठासन - सेज पोज़

वसिष्ठासन श्रेष्ठ योग पोज़ेज़ में से एक है जो शरीर में लचक और संतुलन लाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह कोर मसल्स, कंधें और बांह पर कार्य करता है जिससे कि एक्ट्रा फ्लैब कम होने लगता है।

वसिष्ठासन का अभ्यास कैसे करें

  • पेट के साहारे लेट जांए, कोहनी को मोड़े और हथेलियों को कंधे को नीचे रखें 
  • अपने टोज़ को अंदर की ओर रखें और उनहें ऐसे फ्लोर की ओर ऐसे ठेले ताकि कोहनीयों पर दबाव आए और आपके शरीर का ऊपरी भाग पेल्विज़ के साथ फ्लोर से ऊपर ऊठ जाए। 
  • ध्यान रखे की आपके शरीर का अलाइनमेंट वैसा ही रहे जब आप शरीर को नीचे की ओर लाए।
  • धीरे धीरे आप अपने शरीर को बांई ओर मोड़े और फिर अपने दाएं हाथ को फ्लोर की ओर आगे करें।
  • अपने दाएं पैर को बाहर की ओर मोड़े और अपने बांए पैर को दाएं पैर पर स्टेक करें। यह दोनो प्रक्रिया एक साथ करें। अपने हिप्स और पेल्विज़ को नीचे ना आने दें। इसे उसी अवस्था में रखें जिस अवस्था में पहले रखा था।
  • ऊपर की ओर देंखे और इसी पोज़िशन में पांच ब्रेथ तक रहें।
  • अब इस पोज़ को दूसरी तरफ दोहराएं।

खतरा

जो लोग कलाई, कोहनी और कंधे की चोट से ग्रसित है उनहें सलाह दी जाती है कि वे इस पोज़ को ना करें क्योंकि यह उनकी तकलीफ को बढ़ा सकता है।

वसिष्ठासन - सेज पोज़

वजन कम करने के लिए आप इन सामान्य आसनों से शुरुआत करें और फिर धीरे-धीरे कठिन आसन का अभ्यास करें। योग ना केवल आपके शरीर में मौजूद अतिरिक्त मोटापे को कम करता है बल्कि यह आपको जरूरी मन की शांति भी देता है जो की स्वस्थ जीवन के लिए बहुत आवश्यक है।

 

Your Next Read

Ask your question