Diet & Nutrition 1 MIN READ 92 VIEWS July 30, 2022

विटामिन बी12 की कमी से हो सकते हैं ये 4 नुक्सान

Written By HealthKart
Medically Reviewed By Dr. Aarti Nehra

विटामिन बी12 की कमी

विटामिन बी 12 सभी के स्वास्थ के लिए बहुत आवश्यक है। शरीर में विटामिन बी 12 की कमी का मतलब है बीमारियों को न्योता देना। क्या आप जानते हैं कि विटामिन बी 12 क्या होता है? ये आपको कहाँ से प्राप्त होता है और इसके क्या क्या फायदे हैं? क्या आपको पर्याप्त विटामिन बी 12 मिलता है? क्या आपको पता है विटामिन बी12 आपके डीएनए और रेड ब्लड सेल्स को बनाने में मदद करता है?  

किसी में भी विटामिन बी12 की कमी होना आम है लेकिन उन्हें पता ही नहीं होता कि उनमें विटामिन बी 12 की कमी है। विटामिन बी 12 की कमी प्रेग्नेंसी और फीड कराने वाली महिलाओं को भी हो सकती है। 

क्या आप जानते हैं कि विटामिन बी12 की कमी क्यों होती है? किस उम्र में इसकी कमी सबसे ज़्यादा होने की आशंका होती है? विटामिन बी12 की कमी से कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं? ये सारा ज्ञान आपको भी होना चाहिए। आपतो जानते ही हैं कि शराब पीना हानिकारक है लेकिन ज़्यादा शराब पीने से शरीर नुट्रिएंट्स अब्ज़ॉर्ब नहीं कर पाता है। इससे पर्याप्त कैलोरी नहीं मिल पाती और ये बी 12 की कमी का संकेत है। इसी तरह अगर आप शाकाहारी हैं मतलब आप मांस, दूध, पनीर और अंडे इत्यादि नहीं खाते तो आपको विटामिन बी 12 की कमी हो सकती है। इस कमी को पूरा करने के लिए आप इसका सप्लीमेंट ले सकते हैं। 

हालाँकि विटामिन बी12 की कमी के लक्षण शुरु में पहचान में नहीं आते। जब परेशानियां होनी शुरू होती हैं और आप जाँच करते हैं तभी इसका पता चलता है। आइये एक नज़र डालते हैं इसके मुख्य लक्षणों पर।

विटामिन बी12 की कमी से होने वाले लक्षण 

1. इसकी कमी से गर्भवती महिलाएं को स्वास्थ्य संबंधित कई परेशानियां होती हैं। प्रेग्नेंसी में इसकी जांच जरूर कराएं। 

2. मानसिक समस्याएं जैसे डिप्रेशन, याददाश्त कम होना या व्यवहार में बदलाव आना 

3. विटामिन बी12 की कमी के कारण आंखों की रोशनी पर भी असर पड़ सकता है। ऐसे में डॉक्टर से फ़ौरन मिलें। 

4. विटामिन बी12 की कमी की वजह से भूख कम हो जाती है। इसमें कब्ज भी हो सकता है। 

5. विटामिन बी12 की कमी से थकन और कमज़ोरी भी होती है। 

6. दिल की धड़कन में तेज़ी और सांस फूलना या साँस लेने में तकलीफ 

7. त्वचा का पीला या सफ़ेद पड़ जाना 

8. ज़बान का चिकना और स्वादहीन हो जाना 

विटामिन बी12 की कमी से होती हैं ये बीमारियां

अगर आपमें विटामिन बी12 की कमी है तो आपको कई बीमारियां घेर सकती हैं। इनमें से कुछ बीमारियों का इलाज कराना तो आसान है  लेकिन कई बीमारियां ऐसी भी हो जाती हैं जो बहुत संगीन हैं। इन सीरियस बीमारियों की वजह से रोगी अत्यधिक मुश्किल में पड़ सकता है और उसको तनाव भी हो सकता है जो ऐसे मरीज़ों के लिए ठीक नहीं होता। ये बीमारियां गंभीर ज़रूर हैं लेकिन इनको बढ़ने से रोका भी जा सकता है। ऐसा नहीं है कि इन बीमारियों की रोकथाम नहीं हो सकती। आज तो मेडिकल साइंस बहुत आगे पहुँच गई है। गंभीर से गंभीर रोगों का इलाज आज संभव हो चुका है। हाँ ये ज़रूर है कि इलाज में फायदा तभी है जब आपको समय रहते बीमारी का पता चल जाये और आप सही वक़्त पर डॉक्टर तक पहुँच जाएँ। विटामिन बी 12 की वजह से होने वाली बीमारियों का भी अगर आप समय पर पता लगा लेते हैं तो आप किसी भी गंभीर बीमारी से बच सकते हैं। आइये अब देखते हैं कि ये बीमारियां कौन कौन सी हैं और क्या इनकी रोकथाम संभव है?

1. एनीमिया 

विटामिन बी12 की कमी से होने वाली तमाम गंभीर बीमारियों में से बहुत प्रमुख है एनीमिया। एनीमिया मतलब शरीर में खून की कमी होना। ये किसी को भी तब होता है जब रेड ब्लूब सेल्स बनना बंद हो जाते हैं। प्रेग्नेंट महिलाएं अपने होने वाले बच्चे के लिए भी खून का उत्पादन करती हैं। इसलिए उनको अधिक खून की आवश्यकता होती है और यही वजह है कि ऐसी महिलाओं को एनीमिया होने का खतरा ज़्यादा होता है।  अगर समय रहते इसका पता नहीं चल पाता और इसकी जाँच नहीं हो पाती तो एनीमिया के मरीज को बहुत ज़्यादा नुकसान हो सकता है।

2. डिमेंशिया 

डिमेंशिया में मेमोरी चली जाना, भाषा की समस्या और सोचने समझने की क्षमता लगभग समाप्त हो जाना आदि इसके खास कारण हैं। अल्जाइमर में  भी डिमेंशिया होता है। असल में विटामिन बी12 की कमी से मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को काफी नुकसान पहुंच सकता है जिससे कई तरह की मानसिक बीमारियां हो सकती है। यह एक गंभीर बीमारी है जिसमें मरीज की दिमागी हालत ठीक नहीं रहती। मरीज़ विक्षिप्त अवस्था में भी पहुंच सकता है। इसलिए शरीर में बी 12 की कमी ना हो इसपर हमेशा ध्यान देना चाहिए। 

3. प्रेग्नेंट और फीड कराने वाली महिलाओं को खतरा 

गर्भवती महिलाएं या बच्चे को फीड कराने वाली माँ जो धर्म या किसी और कारण से मांस का सेवन नहीं करती हैं या सिर्फ शाकाहारी भोजन ही खाना पसंद करती हैं उनको विटामिन बी12 की कमी हो सकती है। उन्हें समय समय पर अपनी जाँच करवाते रहना चाहिए। सही समय पर जांच नहीं कराई गई तो उनकी इस विटामिन की कमी से बच्चे को भी नुकसान पहुँच सकता है।  

शरीर में कम हो सकता है सर्जरी के बाद विटामिन बी 12

सर्जरी कई तरह की होती है और लोग कई प्रकार की सर्जरी कराते भी हैं। इनमें प्रमुख हैं वजन कम करने के लिए कराई गई सर्जरी,पेट की सर्जरी या फिर किसी और तरह की सर्जरी। कई सर्जरी ऐसी होती हैं जिसमें शरीर के कुछ अंगों को अलग कर दिया जाता है। ऐसी सर्जरी की वजह से ही शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है और यही कमी  विटामिन बी12 की कमी का कारण भी बन सकती है। ऐसे में जिसकी भी सर्जरी हुई हो उन्हें या उनके परिवार को सर्जरी के बाद उनके खाने पीने का पूरा ध्यान रखना चाहिए। अच्छा और हेल्दी आहार उनके कम हुए रेड ब्लड सेल्स को फिर से बनाना शुरू कर देगा। 

इनके अलावा भी कुछ बीमारियां हैं जैसे स्किन इन्फेक्शन होना। ये भी विटामिन बी12 की कमी से हो सकती है। त्वचा में संक्रमण से घावों को भरने में देर लग सकती है। साथ ही नाखून सहित कई अंगों में पीला-पन भी आ सकता है।

विटामिन बी12 की कमी के कारण पेट की बीमारियां भी हो सकती हैं। 

विटामिन बी12 की कमी के कारण महिलाओं में अस्थाई रूप से बांझपन की समस्या हो सकती है। हालांकि इसके दुसरे कारण भी हो सकते हैं। इसलिए अगर ऐसी स्थिति आ जाये तो तुरंत जांच कराना जरूरी है। 

भूलने की बीमारी का कारण भी प्रायः विटामिन बी12 की कमी की वजह से ही होता है। लेकिन अक्सर देखा गया है कि इस प्रकार की मानसिक बीमारी को लोग गंभीरता से नहीं लेते जिससे मरीज़ को बहुत नुकसान होता है। ध्यान रखिये अगर किसी में इस तरह के लक्षण बार-बार दिखें तो फ़ौरन किसी डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। 

कैसे करें रोकथाम ?

बीमारी कैसी भी हो मरीज़ की देखभाल और उसकी रोकथाम ज़रूरी है। कुछ स्वस्थ आहार विटामिन बी की कमी को पूरा कर सकते हैं। 

विटामिन बी-12 से भरपूर खाद्य पदार्थ

  1. बीफ 
  2. जिगर 
  3. चिकन
  4. मछली 
  5. अंडे
  6. दूध
  7. पनीर 
  8. दही

फोलेट से भरपूर खाद्य पदार्थ 

  1. ब्रोकोली 
  2. पालक
  3. शतावरी और लीमा बीन्स
  4. संतरा
  5. नींबू
  6. केला
  7. स्ट्रॉबेरी 
  8. खरबूजे
  9. ब्रेड
  10. पास्ता 
  11. चावल
  12. यीस्ट 
  13. मशरूम 
  14. मूंगफली

अधिकांश वयस्कों को अपने दैनिक आहार में  निम्नलिखित विटामिन की मात्रा की आवश्यकता होती है

विटामिन बी-12 2.4 माइक्रोग्राम
फोलेट या फोलिक एसिड400 माइक्रोग्राम

गर्भवती और बच्चों को फीड कराने वाली महिलाओं को प्रत्येक विटामिन की सबसे अधिक आवश्यकता हो सकती है। उसकी वजह है कि वो अपने साथ साथ अपने होने वाले बच्चे का भी पूरा पोषण कर रही होती हैं। 

ज़्यादातर लोगों को जो भी वो खा रहे हैं उस खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों से पर्याप्त विटामिन मिलते हैं। लेकिन अगर आपके आहार पर पाबन्दी  लगा दी गई है या फिर आपने गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी करवाई है, तो आप उन आहार की जगह मल्टीविटामिन ले सकते हैं।   

कन्क्लूज़न 

हमारी सेहत के लिए सभी विटामिन्स की तरह विटामिन बी 12 भी बहुत ज़रूरी है। कोई भी विटामिन अगर कम हो जाये तो फिर भुगतना तो शरीर को ही पड़ता है। विटामिन्स के बग़ैर शरीर स्वस्थ रह भी कैसे सकता है। हाँ कभी कभी कोई आहार या सप्लीमेंट इन विटामिन्स की कमी को पूरा कर देते हैं। मगर सप्लीमेंट्स में वो बात कहाँ जो शुद्ध विटामिन्स में होती है। इसीलिए हमने यहाँ बी 12 के बारे में लगभग सारी जानकारी दे दी है। अब इसे फॉलो करना आपकी ज़िम्मेदारी है। अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो आपको इस आर्टिकल में बताई गई बातों को मानना चाहिए। दरअसल अंत में इसका फायदा तो आप ही उठाएंगे।  

Read these next