Healthy At Home 1 MIN READ 567 VIEWS July 27, 2023

क्या होते हैं सम्भावनीय नींबू पानी के नुकसान?

अधिक नींबू पानी दांतों के इनेमल को नुकसान, पेट की समस्याएं और रक्तचाप संबंधी विसंगतियों का कारण बन सकता है। इसे कम मात्रा में स्वस्थ आहार में उपयोग किया जा सकता है। लेकिन, जो लोग कुछ दवाएं ले रहे हैं या गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों से पीड़ित हैं, उन्हें संभावित प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं के प्रति सचेत रहना चाहिए। नींबू पानी के नुकसान को आप नज़रंदाज़ नहीं कर सकते |

यदि बहुत अधिक मात्रा में नींबू पानी का सेवन किया जाए तो इससे दांतों में एसिड का क्षरण हो सकता है। रस की अम्लता से इनेमल को नुकसान हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कैविटी और संवेदनशीलता हो सकती है। अपने दांतों की सुरक्षा के लिए नींबू पानी पीते समय इसे कम मात्रा में लें या पानी में पतला कर लें। इसके सेवन के तुरंत बाद ब्रश करने से भी आपके मौखिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है।

आइए नींबू पानी और अधिक मात्रा में लेने से होने नींबू के नुकसान के बारे में और जानें।

नींबू पानी के नुकसान

नीचे हमने कुछ सम्भावनीय नीम्बू पानी के नुक्सान पर चर्चा की है –

1. निर्जलीकरण

यदि आप नींबू पानी पीने के बाद निर्जलित महसूस नहीं करना चाहते हैं, तो आपको पहले यह समझना होगा कि यह पेय निर्जलीकरण का कारण क्यों बन रहा है। आपको निर्जलीकरण से जुड़े संकेतों को भी समझना या पहचानना होगा।

नींबू पानी का मूत्रवर्धक गुण निर्जलीकरण का कारण बन सकता है। इसके परिणामस्वरूप मूत्र उत्पादन में वृद्धि होती है जिससे तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स की हानि होती है। अत्यधिक नींबू पानी का सेवन जलयोजन स्तर पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। इस प्रकार, सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त अन्य तरल पदार्थ भी मिलते रहें। निर्जलीकरण के लक्षण इस प्रकार हैं:

  • सामान्य से अधिक गहरे रंग का पेशाब आना
  • मुंह में सूखापन महसूस होना
  • चक्कर आना

चूँकि ये लक्षण काफी सामान्य हैं, अन्य कम स्पष्ट चेतावनी संकेतों में भ्रम, सिरदर्द और सुस्ती आना शामिल हैं। 

2. गैस्ट्रिक समस्याएं और अल्सर

रोजाना अधिक मात्रा में नींबू पानी पीने से पेट खराब हो सकता है। चूंकि यह अम्लीय है, इसलिए यह मतली, सीने में जलन और उल्टी जैसी समस्याएं ला सकता है। इसके अलावा, इसे हर दिन पीने से अल्सर का विकास हो सकता है।

इसमें मौजूद एसिड पेट के साथ-साथ आंतों की परत को भी नुकसान पहुंचा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप अल्सर होता है। यदि आप पहले से ही अल्सर के प्रति संवेदनशील हैं तो नींबू पानी से बचना अच्छा होगा। 

3. आपकी हड्डियों पर असर पड़ सकता है

कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार, नींबू पानी हड्डियों के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है। नींबू समय के साथ आपके जोड़ों और हड्डियों के बीच मौजूद चिकनाई को कम कर सकता है। 

4. माइग्रेन

नियमित रूप से नींबू पानी पीने का एक और नुकसान यह है कि यह सिरदर्द और माइग्रेन को ट्रिगर कर सकता है। शोध के अनुसार, नींबू जैसे खट्टे फलों में टायरामाइन का उच्च स्तर होता है जो सिरदर्द और माइग्रेन से जुड़ा होता है।

यदि आप क्रोनिक माइग्रेन से पीड़ित हैं, तो यदि आप प्रतिदिन नींबू पानी का सेवन करते हैं, तो आपको अधिक बार माइग्रेन के अटैक  का अनुभव हो सकता है।

5. अतिरिक्त आयरन

अधिक मात्रा में कोई भी खनिज आपके शरीर के लिए नुक्सानदायक है। आयरन का सामान्य स्तर ऊर्जा उत्पादन, हीमोग्लोबिन के निर्माण और विभिन्न एंजाइमों के कार्यरत के लिए आवश्यक है। कुछ अध्ययनों से यह पता चला है कि नींबू में मौजूद विटामिन सी शरीर में आयरन के अवशोषण को बढ़ा सकता है। 

नींबू पानी के गुण

नींबू की जैविक गतिविधियाँ इसकी उच्च फेनिओलिक यौगिक सामग्री के कारण होती हैं। नींबू पानी के गुण कुछ इस प्रकार हैं:

एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है

  • जीवाणु संक्रमण को कम करने में मदद मिल सकती है
  • एलर्जी प्रतिक्रियाओं से लड़ें
  • रक्त शर्करा का स्तर कम करें
  • वजन प्रबंधन में सहायता
  • सूजन रोधी प्रभाव होता है 

नींबू पानी में कौन से विटामिन होते हैं?

नींबू पानी में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी1, विटामिन ई, विटामिन बी3, विटामिन बी2 और विटामिन बी9 होता है।

नींबू पानी पीते समय आपको कौन से सुरक्षा उपाय अपनाने चाहिए?

जब सीमित मात्रा में लिया जाए, तो नींबू पानी हानिरहित माना जाता है। लेकिन, कुछ सामान्य सुरक्षा उपाय हैं जिन पर आपको अवश्य विचार करना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं के लिए नींबू पानी के सुरक्षित उपयोग के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। अगर कोई अप्रत्याशित लक्षण सामने आए तो तुरंत आयुर्वेदिक डॉक्टर के पास जाएं। सांद्रित नींबू के रस के कारण होने वाले खराब इनेमल होने से बचाने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए। पीने से पहले नींबू के रस को पानी में पतला करने की भी सलाह दी जाती है। 

नींबू पानी कब नहीं पीना चाहिए?

जब आप जानते हैं कि आपको एसिडिटी या रिफ्लक्स होने का खतरा है, तो आपको नींबू पानी नहीं पीना चाहिए। जैसा कि हमने पहले चर्चा की है, यह अम्लीय है और रिफलक्स अन्नप्रणाली की आंतरिक परतों को इरिटैट  कर सकता है। इसे खाली पेट पीने से स्थिति और खराब हो सकती है।

कन्क्लूज़न

अब आप जान गए होंगे नीम्बू पानी पीने के नुक्सान के बारे में | यदि आप नीम्बू पानी पीना पसंद करते हैं तो ध्यान रखें कि आप इसको एक सिमित मात्रा में ही लें | ऊपर दी गयी सलाह को ध्यान रखते हुए ही नीम्बू पानी का सेवन करें और अपने आपको इन दुष्प्रभावों से दूर रखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read these next