Diet & Nutrition 1 MIN READ 71 VIEWS September 12, 2022

शरीर में आयरन की कमी के कारण

Written By HealthKart
Medically Reviewed By Dr. Aarti Nehra

आयरन की कमी

किसी के लिए भी आयरन बेहद जरूरी होता है। अगर शरीर में आयरन की कमी हो जाए तो एनीमिया हो जाता है। वैसे आयरन की कमी तब होती है जब शरीर में मिनरल आयरन की पर्याप्त मात्रा नहीं होती है। शरीर में हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है। यदि शरीर में पर्याप्त हीमोग्लोबिन नहीं है तो आपके टीसूज़ और मसल्स को प्रभावी ढंग से काम करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलेगी। हालांकि एनीमिया के विभिन्न प्रकार हैं। आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया दुनिया भर में सबसे आम है। 

आयरन शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण नुट्रिएंट्स है। इसकी कमी अगर हो जाये तो शरीर को थकावट लगती है। एनर्जी कम हो जाती है। तब रेड ब्लड सेल्स का उत्पादन ठीक से नहीं हो पाता। यही एनीमिया कहलाता है। पुरुषों के मुकाबले महिलाएं ज़्यादा एनिमिक होती हैं। उसकी वजह है हर महीने मेन्स्ट्रूऐशन जिसमे ब्लड लॉस होता है और  प्रेग्नेंसी जब उनके शरीर में आयरन की कमी हो जाती है। क्यों होती है आयरन की कमी और इसमें क्या क्या खाना चाहिए जिससे आयरन की इस कमी को दूर किया जा सके? आज इसी विषय पर आपसे बात होगी।      

क्या हैं आयरन की कमी के मुख्य कारण? 

बॉडी में आयरन डेफिशिएंसी की वजह से एनीमिया तब होता है जब शरीर को हीमोग्लोबिन के उत्पादन के लिए आयरन की जरूरत हो और पर्याप्त आयरन बॉडी में मौजूद ही ना हो। इसका एक कारण ये है कि डाइट में आयरन से भरपूर फ़ूड इंग्रेडिएंट को सम्मिलित ना करना। जहाँ तक महिलाओं की बात है तो उनमें मेंसेस के कारण खून की कमी हो जाती है और वो इस वजह से एनेमिक हो जाती हैं। अगर किसी को भी आयरन की कमी हो गई है तो वो अपने डॉक्टर से परामर्श करे, वही एनीमिया का सही इलाज बताएंगे। 

आयरन की कमी के लक्षण 

आयरन की कमी की पहचान और लक्षण अलग-अलग होते हैं जैसे :-  

1. स्किन हो जाती है कुछ ज़्यादा पीली 

आयरन की कमी का एक लक्षण है स्किन का सामान्य से अधिक पीला पड़ जाना। साथ ही पलकों के अंदर का रंग भी पीला हो जाता है। रेड ब्लड सेल्स में हीमोग्लोबिन ब्लड को लाल करता है। आयरन की कमी की वजह से लेवल कम हो जाते हैं और इससे ब्लड का रंग कम लाल हो जाता है। इसलिए जिसमें भी आयरन की कमी होगी उनकी स्किन का रंग कुछ फीका हो सकता है।

2. बहुत ज़्यादा थकान का एहसास 

आयरन की कमी होने से बहुत ज़्यादा थकान का एहसास होता है। ये एनीमिया के लक्षणों में से एक है। यह थकान इसलिए होती है क्योंकि आपके शरीर में हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन बनाने के लिए आवश्यक आयरन की कमी हो जाती है जो आपके शरीर को ऑक्सीजन देने में मदद करता है। पर्याप्त हीमोग्लोबिन के बिना कम ऑक्सीजन टीसूज़ और मसल्स तक पहुँचती है जिससे उनकी एनर्जी कम हो जाती है। आपके शरीर को  अधिक ऑक्सीजन युक्त ब्लड पहुँचाने के लिए आपके दिल को भी ज़्यादा मेहनत करनी पड़ती है, जिससे आप को थकान होती है। चूंकि थकान को अक्सर व्यस्त और आधुनिक जीवन का हिस्सा माना जाता है इसलिए अकेले इस सिम्टम के आधार पर आयरन की कमी का डायग्नोज़ करना मुश्किल है। फिर भी आयरन की कमी के कारण थकान, कमजोरी, चिड़चिड़ापन या कॉन्सेंट्रेट करने में कठिनाई हो सकती है।   

3. सांस लेने में तकलीफ 

आयरन की कमी के कारण जब हीमोग्लोबिन का लेवल कम होता है तो ऑक्सीजन का स्तर भी कम होता है। इसका ये मतलब हुआ कि आपकी मसल्स को पूरी तरह से पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। इसके नतीजे में आपको सांस लेने में परेशानी होगी क्योंकि शरीर तो अधिक ऑक्सीजन प्राप्त करने की कोशिश कर रहा है। अब रोज़मर्रा कार्य करते समय आपकी सांस फूलती है जबकि पहले आपको चलना, सीढ़ियाँ चढ़ना या कोई भी काम करनाआसान लगता था। ऐसा आयरन की कमी की वजह से ही होता है। 

4. धड़कन का अचानक बढ़ जाना 

दिल की धड़कन का तेज होना, आयरन  की कमी के कारण एनीमिया का एक और लक्षण है। हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स में एक प्रोटीन है जो शरीर के अंदर ऑक्सीजन के संचालन में मदद करता है। आयरन की कमी में हीमोग्लोबिन के लौ लेवल का मतलब है कि हार्ट को ऑक्सीजन ले जाने के लिए अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ रही है। इससे दिल की धड़कन अनियमित हो सकती है या आपको ये महसूस हो सकता है कि आपका दिल असामान्य तरह से धड़क रहा है। आयरन की कमी आपके दिल की स्थिति को असामान्य कर सकती है।  

5. सिरदर्द होना 

आयरन की कमी से सिरदर्द भी हो सकता है। खासकर ये महिलाओं को मेंसेज़ की वजह से होता है। हालांकि सिरदर्द के कई कारण होते हैं।  लेकिन बार-बार होने वाला सिरदर्द आयरन की कमी की वजह से हो सकता है।

6. बाल और त्वचा का सूखापन 

सूखी त्वचा और बाल आयरन की कमी के कारण हो सकते हैं। आयरन की कमी से रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है जिससे बालों का विकास करने वाले सेल्स को ऑक्सीजन की कम मात्रा मिलती है। जब त्वचा और बाल ऑक्सीजन से वंचित होते हैं तो ज़ाहिर है वो सूखे और कमजोर ही होंगे। एक रिसर्च के अनुसार आयरन की कमी से बाल भी झड़ते हैं। अगर आप हर रोज बाल धोते और ब्रश करते हैं तो इस दौरान थोड़े से बालों का झड़ना स्वाभाविक है। लेकिन अगर आपके बाल बड़ी मात्रा में झाड़ रहे हैं तो यह आयरन की कमी हो सकती है।  

7. जीभ या मुँह में सूजन और दर्द 

कभी-कभी आपके मुँह की सूजन या दर्द से यह संकेत मिलता है कि आप में आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया है या नहीं। आयरन की कमी से आप में कुछ ऐसे लक्षण भी हो सकते हैं – हरदम सूखा हुआ मुँह, हर समय ग़ुस्सा और झल्लाहट, मुँह में दर्द  मुँह में छालें  

8. पैरों में बेचैनी 

आयरन की कमी को रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से जोड़ा गया है। ऐसे में जब आप आराम कर रहे होते हैं तो पैरों को हिलाने की बहुत इच्छा होती है। यह आपके पैरों में खुजली का कारण भी बन सकता है। ऐसा आमतौर पर रात में होता है जिससे आपका सोना मुश्किल हो सकता है। दरअसल आयरन की कमी वाले एनेमिक लोगों में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम होने की संभावना आम लोगों की तुलना में 6 गुना अधिक होती है। 

9. ब्रिटल या चम्मच की शेप के नाखून 

आयरन की कमी का एक बहुत ही अनकॉमन लक्षण है नाखून का ब्रिटल या चम्मच के आकार का हो जाना। इसको कोइलोनीकिया कहा जाता है। आमतौर पर ब्रिटल नाखून का पहला संकेत ये होता है कि ये आसानी से टूट जाता है। आयरन की कमी के कारण पैरों के नाखून चम्मच के आकार के हो सकते हैं। हालांकि यह एक रेयर साइड इफ़ेक्ट है जो आयरन की कमी वाले लगभग 5% लोगों में ही होता है। 

10. डिप्रेशन की भावना 

आयरन की कमी के लक्षण में एक है डिप्रेशन। ये अडल्ट्स को हो सकता है। आयरन की कमी वाली गर्भवती महिलाओं को भी डिप्रेशन  का खतरा अधिक होता है। इससे बचने के लिए आयरन के आहार पर ध्यान दें।   

11. खाने की अजीब लालसा 

अजीब अजीब खाद्य पदार्थों या गैर-खाद्य पदार्थों को खाने की इच्छा या लालसा को  पाइका  कहते हैं। इसमें आमतौर पर बर्फ, मिट्टी, गंदगी, चाक या कागज खाने की इच्छा होती है और यह आयरन की कमी का संकेत हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान भी ऐसी इच्छा हो सकती है।  

12. हाथ-पैर ठन्डे होना  

जब आपके शरीर में ऑक्सीजन की कम मात्रा पहुँचती है तो इसका मतलब आपके अंदर आयरन की कमी है। इससे आपके हाथ,पैर ठन्डे रहते हैं। कुछ लोगों को ज़्यादा ठंड का एहसास भी हो सकता है।   

13. बार बार इन्फेक्शन होना 

शरीर में आयरन की कमी के कारण बहुत हैं। एक स्वस्थ इम्यून सिस्टम के लिए आयरन की आवश्यकता होती है। अगर शरीर में आयरन की कमी होती है तो इससे इन्फेक्शन बार बार हो सकता है।  

14. कम भूख लगना 

आयरन की कमी होती है तो भूख भी कम लगती है। अगर आप हेल्दी डाइट नहीं लेंगे तो आयरन की ये कमी दिन बा दिन और ज़्यादा बढ़ती जाएगी।  

आयरन की कमी को खत्म करने के लिए ये खाएं

आयरन की कमी के लक्षण तो आपको पता चल गए। लेकिन जब आयरन की कमी हो तो आपको क्या खाना चाहिए। आयरन की कमी होने पर आप हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, साग, पालक इत्यादि को अपनी डाइट में शामिल कीजिये। इसमें आयरन का भंडार भरा है। इसके अतिरिक्त ड्राई फ्रूट्स, नट्स, रेड मीट, आयरन-फोर्टिफाइड अनाज, अंडा, बींस, सीफूड्स, कद्दू के बीज, किशमिश इत्यादि का भी आपको खूब सेवन करना चाहिए। तो ये हैं मुख्य आयरन के आहार।  

कॉनक्लुज़न 

आयरन की डेफिशियेंसी के लक्षण जानना बेहद आवश्यक है ताकि आप अपने आप को और दूसरों को इस दुविधा से वक़्त पे बचा पाएं | कोशिश यही कीजिये कि आपके शरीर में आयरन की कमी ना होने पाए। ऊपर दी गयी मूल्य सूचना का ध्यान रखते हुए इस परेशानी से खुद को बचाएँ |

Read these next