Diet & Nutrition 1 MIN READ 460 VIEWS November 30, 2022

ज़रूरत से ज़्यादा खाना खाने के नुक्सान

Written By HealthKart
Medically Reviewed By Dr. Aarti Nehra

खाना खाने

एक बार में बहुत अधिक भोजन करना या दिन भर में बहुत अधिक कैलोरी लेना ऐसी सामान्य आदतें हैं जिन्हें तोड़ना कठिन हो सकता है। ओवरईटिंग तब होती है जब कोई व्यक्ति फिजिकल एक्टिविटी की वजह से खर्च की हुई ऊर्जा के कारण अधिक कैलोरी का सेवन करता है जिससे वजन बढ़ता है और अक्सर मोटापा भी होता है। जब कोई तनावग्रस्त होता है, डिप्रेशन से पीड़ित होता है, लाचार और असहज महसूस करता है तो ऐसे में खुद को आराम देने के लिए भोजन पर निर्भर हो जाता है। तब वो ज़्यादा खाना खाने लगता है। अच्‍छी सेहत के लिए किसी को भी हमेशा नुट्रिशयस  फ़ूड खाना चाहिए। ओवरईटिंग करना किसी के लिए एक बुरे स्वप्न की तरह हो सकता है। ज़्यादा खाना आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर ही बुरा असर डाल सकता है। 

आप इस बात को अच्छी तरह जानते होंगे कि ज़रूरत से ज़्यादा भोजन आपकी हेल्थ के लिए कभी भी अच्छा नहीं हो सकता। ये आपको लगातार परेशान कर सकता है और धीरे धीरे तमाम समस्याएं खड़ी कर सकता है। आपको अस्थिर कर सकता है। अधिक भोजन करने से खाने को पचाने में काफी दिक्कत हो सकती है और ये आपके शरीर के परिवर्तन की एक मुख्य वजह भी बन सकता है यानी आप जल्द ही मोटापे की तरफ जा सकते हैं। हालाँकि कभी-कभी इस प्रकार की ओवरईटिंग से कोई ज़्यादा फ़र्क़ नहीं पड़ता है। लेकिन अगर आपने ये आदत ही बना ली है तो फिर इससे आपका वजन, फैट और शरीर को प्रभावित कर सकता है। 

इसके अतिरिक्त समय के साथ बहुत अधिक खाना खाने से वजन तो बढ़ता ही है साथ ही डाइबिटीज़ और हृदय रोग जैसी खतरनाक बीमारियां होने का खतरा भी बढ़ सकता है। भले ही आपको ईटिंग डिसऑर्डर हो लेकिन ओवरईटिंग के इस चक्र को तोड़ना चुनौतीपूर्ण हो सकता है और इसमें कुछ दिक्कतें भी आ सकती हैं।  

ज़्यादा खाना खाने के नुक्सान 

ये तो आप जान ही गए हैं कि ज़्यादा खाना खाने से बहुत सारे नुकसान हो सकते हैं। वज़न बढ़ सकता है, दिल से सम्बन्धित बीमारियां हो सकती हैं, मधुमेह जैसे खतरनाक रोग लग सकते हैं और आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। लेकिन इसके अलावा भी आप बहुत कुछ परेशानियां उठा सकते हैं। आइये आपको इनमें से कुछ समस्याओं के बारे में बताते हैं।      

1. ब्रेन फंक्शन के लिए नुकसानदायी 

अगर आपको ज़्यादा खाना खाने का शौक है तो समय रहते संभल जाइये। इससे आपका दिमाग ठीक से काम नहीं कर सकेगा। आहार में हाई कैलोरी की अधिक मात्रा आपकी याददाश्त पर बुरा असर डाल सकती है। 

2. डाइजेस्टिव सिस्टम को करे खराब 

भूख से अधिक भोजन करना कभी भी ठीक नहीं होता है। किसी विशेष मौके पर तो आप थोड़ा फायदा उठा सकते हैं लेकिन बार बार ऐसा करना आप ही के लिए नुकसानदायक है। ज़्यादा खाद्य पदार्थ आपके पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे आपको एसिडिटी सिंड्रोम, अपच, अत्यधिक सूजन और गैस जैसी बीमारियां घेर सकती हैं।  

3. दिल की बीमारी से जुड़ी समस्याएं 

ज़्यादा खाना खाने से आपको दिल से जुड़ी बीमारियों की समस्या भी हो सकती है। इसके साथ ही बहुत सी दूसरी हेल्थ प्रोब्लेम्स की भी संभावना बढ़ सकती है। ज़्यादा खाने से हार्मोन नॉरऍपीनेफ्रिन बढ़ सकता है जो हृदय गति और ब्लड प्रेशर को बढ़ा देता है। अगर किसी को पहले से ही हार्ट प्रोब्लेम्स हैं और इसके बावजूद वो ज़्यादा मात्रा में खाना खाता है तो उसके हार्ट अटैक का खतरा अन्य के मुक़ाबले में अधिक होता है। 

4. अच्छी नींद में व्यवधान 

जो भी अपनी खुराक से ज़्यादा खाना खाते हैं तो उन्हें कभी भी अच्छी नींद नहीं आती और वो बहुत बेचैन होकर सोते हैं। इसके अलावा ज़्यादा खाना खाने से वो सुस्त भी हो जाते हैं। 

5. डायबिटीज को बुलावा 

ज़्यादा खाना खाने से डाइबिटीज़ का खतरा बढ़ जाता है। इससे वजन बढ़ता है जो टाइप 2 डायबिटीज होने का एक मुख्य कारण है। हद से ज़्यादा ओवरईटिंग ब्लड शुगर को एनर्जी में परिवर्तित करने के लिए ब्लड सेल्स को रोक देती है। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है और फिर डायबिटीज का खतरा बढ़ सकता है। 

6. फैट का बढ़ना 

अगर आप ज़्यादा खाना खाने के शौक़ीन हैं और बार-बार भोजन करने की इच्छा होती है तो इससे आपका डाइजेशन प्रोसेस खराब हो सकता है। यही वजह है कि आपके शरीर में फैट जमा होने लगता है और इससे आपका वज़न भी बढ़ सकता है।     

ज़्यादा खाने से कैसे बचें? 

ज़्यादा खाने का सेवन करना अच्छा नहीं है लेकिन कुछ लोगों का शौक है सिर्फ खाना। अगर आपने ज़्यादा भोजन कर भी लिया है तो आपको तुरंत उसको पचाने का उपाय ढूंढना चाहिए। जैसे आप टहलिए। खाने के बाद थोड़ा टहलना वैसे भी फायदेमंद होता है। अगर आपका पेट फूल रहा हो तो ढीले ढाले कपडे पहन लीजिये। इससे भी आराम मिलेगा। पानी कम ही पियें और हो सके तो हाज़मे की गोलियां खा लें।  सोडा का उपयोग बिलकुल ना करें क्योंकि इससे गैस बनती है। ज़्यादा खाने से बचने के लिए खाना खाते समय टी वी ना देखें और ज़्यादा बातें भी ना करें। परिवार के साथ भोजन करने की कोशिश करें और हर मील समय पर खाएं। 

1. खाने से ध्यान हटाएं

ज़्यादा खाने से बचने का एक ही आसान उपाय है और वह ये कि आपको जब भूख लगे तो अपना दिमाग़ किसी और तरफ लगाइये। लेकिन अगर फिर भी भूख को आप कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं तो इसके लिए साइकॉलजिकल ट्रीटमेंट करिये। तब ऐसा खाने खाइये जो आपका मूड अच्छा कर दे। इससे आपके शरीर में सेरिटोनिन लेवल बढ़ेगा। 

2. हेल्दी डाइट लीजिये 

आप हमेशा हेल्दी और बैलेंस डाइट लीजिये। जैसे सीज़नल फ्रूट्स, नट्स, सीड्स और तरह तरह की हरी सब्जियां। इससे आपके शरीर में ऊर्जा बनी रहेगी और मस्तिष्क भी शांत रहेगा। आपका रोज का भोजन जैसे अनाज, दालें, सब्जियां और दूध इत्यादि बेहतर भोजन की श्रेणी में आते हैं। 

3. तनाव से दूर रहें 

कभी कभी मानसिक तनाव भी भूख का कारण बन जाता है और इस वजह से भी बार-बार भूख लग सकती है। लेकिन ऐसा तब होता है जब तनाव गेर्लिन के स्तर को बढ़ाता है और इससे डिप्रेशन और बेचैनी बढ़ जाती है। 

4. भोजन और नाश्ते में फाइबर शामिल करें 

फाइबर फ़ूड आपके लिए सहायक हो सकता है। उदाहरण के लिए भुनी हुई सब्जियों की एक प्लेट और पनीर के कई टुकड़ों की तुलना करें। दोनों में समान मात्रा में कैलोरी हो सकती है लेकिन भुनी हुई सब्ज़ियां आपके लिए ज़्यादा फायदेमंद हो सकती हैं क्योंकि वो फाइबर से भरपूर होती हैं। जिनसे आपकी अधिक खाना खाने की भावना की प्रवृत्ति को कम करने में मदद मिल सकती है।  

5. भोजन स्किप करने से बचें

जो लोग किसी भी समय भोजन छोड़ देते हैं, उससे बचते हैं या फिर उनके खाने का कोई निर्धारित समय नहीं होता है, ऐसा करना बिलकुल ग़लत है। इससे शरीर पर खराब असर पड़ सकता है। कई लोग समझते हैं कि भोजन छोड़ने से उन्हें तेज़ भूख लग सकती है लेकिन ये बात सही नहीं है। आप चाहें तो पूरे दिन में नियमित रूप से छोटे छोटे स्नैक्स भी ले सकते हैं। 

6. स्वास्थ के लिए हाइड्रेटेड रहना बेहतर 

जब भी आपको भूख महसूस हो या आपको किसी चीज़ को खाने की इच्छा हो रही हो तो आप बस थोड़ा सा पानी पी लीजिये। पूरे दिन आपको अपने पानी के सेवन को बनाए रखने से भूख के उन मुश्किल क्षण को पूरी तरह से दूर करने में मदद मिल सकती है जो वास्तव में भूख के कारण नहीं हैं। ऐसा करना आपकी सेहत के लिए अच्छा हो सकता है। 

7. खाने की दूसरी सर्विंग लेने से पहले सोचिये 

आप जब भी खाना खाने जा रहे हों तब आपको ये ज़रूर सोचना चाहिए कि आपको पहली बार के बाद दूसरी बार भी अपनी प्लेट को खाने से भरना है। क्या वास्तव में आपको दोबारा अपनी प्लेट को फिर से भरने की ज़रूरत है या नहीं? लेकिन सलाह यही है कि आप एक और बार खाना लेने से पहले थोड़ी देर प्रतीक्षा करिये और सोचिये कि आपको अब दोबारा खाना खाने की ज़रूरत है या नहीं। आप इन्हीं बातों को मान कर अपने ज़्यादा खाने में कटौती कर सकते हैं। 

कन्क्लूज़न 

अब तो आप भी जान गए होंगे कि ज़्यादा खाना खाने से क्यों परहेज़ करना चाहिए? इससे सेहत तो खराब होती ही है साथ ही आपका डील- डौल भी बर्बाद हो जाता है। स्वस्थ रहने के लिए ज़्यादा खाना नहीं बल्कि न्यूट्रिएंट्स की जरूरत होती है और बहुत से लोग सोचते हैं कि ज्यादा खाने से वह ज़्यादा हेल्दी हो सकते हैं। आपको ज्यादा खाना खाने के बजाय हेल्दी खाना खाने की ज़रूरत है। आपको ये पता होना चाहिए कि कौन सा खाना सेहत के लिए फायदेमंद है और कौन सा आपको नुकसान पहुंचा सकता है। अपना ख्याल रखियेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read these next