Hindi 1 MIN READ 96 VIEWS May 27, 2024

हिस्टीरिया बीमारी क्या है?

Written By HealthKart
Medically Reviewed By Dr. Aarti Nehra


हिस्टीरिया शब्द का इस्तेमाल अक्सर भावनात्मक रूप से आक्रामक (अग्रेसिव) व्यवहार का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो अत्याधिक और नियंत्रण से बाहर लगता है। जब कोई व्यक्ति किसी स्थिति के लिए अनुचित रूप से तीव्र भावनात्मक प्रतिक्रिया देता है, तो उसे “हिस्टीरिकल” कहा जा सकता है। हिस्टीरिया एक जटिल स्थिति है जो किसी भी लिंग के लोगों को प्रभावित कर सकती है। यह विभिन्न प्रकार के शारीरिक और भावनात्मक लक्षणों का कारण बन सकता है, जिनका निदान (डायग्नोसिस) और उपचार करना मुश्किल हो सकता है। इस लेख में हम बताएँगे कि हिस्टीरिया बीमारी कैसे होती है और यदि आपका कोई परिचित हिस्टीरिया का अनुभव कर रहा है, तो उसे पहचानने और मदद लेने के लिए क्या करना चाहिए।

हिस्टीरिया बीमारी क्या है

पागलपन, जिसे पहले “हिस्टीरिकल न्यूरोसिस” या सीधे “हिस्टीरिया” के नाम से जाना जाता था, एक काम्प्लेक्स मनोवैज्ञानिक (सायिकोलॉजिकल) स्थिति है। इसमें कई तरह के लक्षण हो सकते हैं, जिनमें कुछ शारीरिक लक्षण भी शामिल हैं जिनका कोई स्पष्ट कारण नहीं मिलता है। आजकल, “हिस्टीरिया” शब्द का इस्तेमाल नहीं किया जाता। पहले के समय में हिस्टीरिया से जुड़े लक्षणों को अब कई अलग-अलग मानसिक रोगों के रूप में समझा जाता है, जैसे कि कन्वर्ज़न डिसऑर्डर, सोमेटिक सिम्पटम डिसऑर्डर या डिसएसोसिएटिव डिसऑर्डर, पहले माना जाता था कि हिस्टीरिया सिर्फ महिलाओं को ही होता है और यह उनके गर्भाशय में गड़बड़ी के कारण होता है। हिस्टीरिया शब्द यूनानी भाषा के “हिस्टेरा” से आया है, जिसका मतलब गर्भाशय होता है। लेकिन अब हम जानते हैं कि पागलपन जैसे लक्षण किसी को भी हो सकते हैं, चाहे वे किसी भी लिंग के हों।

हिस्टीरिया बीमारी कैसे होती है

हिस्टीरिया, जिसे अब विस्तृत रूप से सोमेटिक सिम्पटम डिसऑर्डर कहा जाता है, एक मानसिक (मेंटल) हेल्थ समस्या है जो व्यक्ति को विभिन्न शारीरिक लक्षणों या अस्वाभाविक सावधानियों के अनुभव के लिए बाध्य कर सकती है। हिस्टीरिया का कारण ठीक से स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसके पीछे मानसिक, सामाजिक, और व्यक्तिगत कारकों का संयोजन हो सकता है। इस समस्या के कुछ मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • डिसइन्टेग्रेटिव डिसऑर्डर: आघात, जैसे कि बचपन में दुर्व्यवहार या आपदाओं के संपर्क में आना, डिसइन्टेग्रेटिव डिसऑर्ड को ट्रिगर कर सकता है। इन विकारों में शामिल हैं:
    • डिसोसीएटिव डिसऑर्डर : यह एक गंभीर मेंटल हेल्थ स्थिति  है जिसमें व्यक्ति के पास एक से अधिक अलग-अलग व्यक्तित्व होते हैं।
    • डिस्पर्सिव एम्नेशिया: यह एक अचानक और अस्थायी स्मृति हानि है जो आमतौर पर एक तनावपूर्ण घटना के कारण होती है।
    • डिसोसिएटिव फ्यूग: यह एक अचानक और अस्थायी स्थिति है जिसमें व्यक्ति को अपनी पहचान और अतीत की याद नहीं रहती है।
  • सोमेटिक सिम्पटम डिसऑर्डर: यह विकार बचपन में दुर्व्यवहार, उपेक्षा, या स्वास्थ्य के बारे में अत्यधिक चिंता से उत्पन्न होता है। यह निम्नलिखित लक्षणों में प्रकट होता है:
  • शारीरिक चिंताओं में वृद्धि: व्यक्ति को लगातार स्वास्थ्य समस्याओं का डर रहता है और वे बार-बार डॉक्टरों से मिलते हैं।
  • कम दर्द सहनशीलता: व्यक्ति सामान्य दर्द को भी असहनीय रूप से तीव्र अनुभव करता है।
  • हिस्टेरिकल कोन्टेजिओन: सोशल और सायकलोजिकल प्रभाव समूहों को सामूहिक रूप से शारीरिक बीमारी के लक्षणों का अनुभव करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं, एक घटना जिसे हिस्टेरिकल कोन्टेजिओन के रूप में जाना जाता है। यह घटना आमतौर पर तनावपूर्ण परिस्थितियों में होती है, जैसे कि युद्ध या महामारी के दौरान।

हिस्टीरिया बीमारी के लक्षण और उपाय

हिस्टीरिया के लक्षण निम्नलिखित होते हैं :

  • अंधापन
  • इमोशनल आउटबर्स्ट
  • हल्लुसीनेशन 
  • हिस्टोरिकल व्यवहार 
  • सुझावशीलता में वृद्धि
  • संवेदना की हानि
  • ट्रान्स जैसी अवस्थाएँ
  • भूलने की बीमारी
  • पैरालिसिस
  • बेहोशी
  • दौरे
  • दर्द संवेदनशीलता में वृद्धि
  • मांसपेशियों में अकड़न या ऐंठन

हिस्टीरिया बीमारी के उपाय या उपचार निम्नलिखित हैं:

  • कोगनिटिव बिहेविरियल थेरेपी: यह नकारात्मक विचारों को बदलने और कोपिंग स्किल्स में सुधार करने में मदद करता है।
  • डायलेक्टिकल बिहेवियरल थेरेपी: यह भावनात्मक विकृति और पारस्परिक कठिनाइयों को कम करने में मदद करता है।
  • आई मूवमेंट डिसेन्सिटाइजेशन एंड रीप्रोसेसिंग: यह दर्दनाक यादों से जुड़े अनुभवों को कम करने में मदद करता है।
  • माइंडफुलनेस-आधारित थेरेपी: यह वर्तमान क्षण (प्रेजेंट मोमेंट) में रहने और विचारों और भावनाओं को स्वीकार करने में मदद करता है।

निष्कर्ष

इस लेख के माध्यम से हमने हिस्टीरिया बीमारी के विषय में व्यापक जानकारी साझा की है। हिस्टीरिया एक गंभीर समस्या हो सकती है जो व्यक्ति के जीवन को प्रभावित कर सकती है। इस बीमारी की सही समय पर पहचान और उपचार करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। हिस्टीरिया बीमारी के लक्षणों को समझना और समय रहते उपचार शुरू करना जीवन की गुणवत्ता को सुनिश्चित कर सकता है। यदि आपके या आपके परिवार के किसी सदस्य को हिस्टीरिया के लक्षण महसूस होते हैं, तो उन्हें तत्काल मेडिकल केयर लेना चाहिए। हमें आशा है कि इस लेख के माध्यम से दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी और आप हिस्टीरिया बीमारी से संबंधित सभी संदेह और सवालों का समाधान कर पाएंगे।  क्योंकि इस बीमारी के बारे में सही और सटीक जानकारी होना महत्वपूर्ण है ताकि लोग इसे सही तरीके से समझ सकें और उचित उपचार करवा सकें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read these next