Diet & Nutrition 4 MIN READ 148 VIEWS June 10, 2022

व्हे प्रोटीन और उसके फायदे

Written By HealthKart
Medically Reviewed By Dr. Aarti Nehra

व्हे प्रोटीन और उसके फायदे

आजकल लोगों में अपनी फिटनेस को लेकर बहुत क्रेज़ है और इसके लिए व्हेय प्रोटीन का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद होता है। व्हे प्रोटीन एक प्रकार का सप्लीमेंट होता है जिसे खाने से बॉडी को ताकत मिलती है और उसका एनर्जी लेवल एकदम बढ़ जाता है। दूध में दो तरह के प्रोटीन पाए जाते हैं।  कैसीन और व्हे। व्हे प्रोटीन को दूध में कैसीन से अलग किया जा सकता है। चीज़ के साथ जो बायप्रोडक्ट निकलता है वही व्हे प्रोटीन है।  इसे मट्ठा भी कहा जाता है।  व्हे प्रोटीन को संपूर्ण प्रोटीन माना जाता है क्योंकि इसमें सभी 9 तरह के आवश्यक एमिनो एसिड पाए जाते हैं। इतना ही नहीं, व्हे प्रोटीन की सहायता से शरीर को बेहतर भी बनाया जा सकता है और मसल्स को भी मज़बूती दी जा सकती है। जो भी अपनी मसल्स या बॉडी अच्छी बनाना चाहते हैं, वो व्हे प्रोटीन का उपयोग कर सकते हैं । इसके इस्तेमाल से बॉडी मज़बूत बनती है। व्हे प्रोटीन के बहुत फायदे हैं जो इसे खास सप्लीमेंट बनाते हैं। साथ ही, वजन घटाने तथा बढ़ाने दोनों अवस्थाओं में सही मात्रा में प्रोटीन डाइट की आवश्यकता होती है। ऐसे में सिर्फ प्रोटीन की पूर्ति के लिए व्हे प्रोटीन सबसे फायदेमंद प्रोटीन सप्लीमेंट हो सकता है।   

बाजार में तमाम तरह के प्रोटीन सप्लीमेंट्स मौजूद हैं मगर इन सब में व्हे प्रोटीन सबसे ज़्यादा पॉपुलर और बेनेफिशियल प्रोटीन सप्लीमेंट है। इसको आसानी से अपनी डाइट में शामिल किया जा सकता है। ये सप्लीमेंट पाउडर के रूप में उपलब्ध है जिसे पानी , दूध , योगहर्ट्ज़ और दुसरे कई पेय सब्स्टन्स में मिला कर पिया जा सकता है। एक्सपर्ट्स एक दिन में (एक या दो फुल स्कूप ) 25 से 50 ग्राम व्हे प्रोटीन लेने की सलाह देते हैं। 

व्हे प्रोटीन एक ‘कंप्‍लीट प्रोटीन’ होता है । व्हे प्रोटीन में ग्लूटामिन, ब्रांच्ड एमीनो एसिड्स, अमीनो एसिड्स और कई तरह के एलिमेंट मौजूद होते हैं। यह सभी एलिमेंट मसल्स और बॉडी डेवलप करने में हेल्प करते हैं। आपको पता होगा कि प्लेयर्स और जिमफ्रीक  एक्सरसाइज के तुरंत बाद प्रोटीन का सेवन करते हैं। यह प्रोटीन व्हे प्रोटीन होता है। इन प्रोटीन्स को अपनी बॉडी के वजन के हिसाब से लिया जाता है। 

व्हे प्रोटीन का सेवन बॉडी को मज़बूत बनाने में किया जाता है। एक बात और , वो ये कि बॉडी बनाने के लिए जिम करने के साथ साथ सप्लिमेंट खाना भी जरुरी होता है। जी हाँ , व्हे प्रोटीन भी एक प्रकार का सप्लिमेंट है।  व्हे प्रोटीन से शरीर को कई फायदे मिलते हैं| मसल्स को मजबूत बनाने हार्ट, शुगर, अस्थमा, मोटापा और कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करने में मदद मिलती है. व्हे प्रोटीन से तनाव दूर करने और नींद में सुधार होता है|

अब आपको बताते हैं व्हे प्रोटीन के फायदे : 

1. मज़बूत मसल्स 

व्हे प्रोटीन लेने से मसल्स पर अच्छा असर पड़ता है और मसल्स कि मज़बूती बढ़ती जाती है। इसलिए जिनकी मसल्स कमजोर हैं उन्हें इसका सेवन ज़रूर करना चाहिए। व्हे प्रोटीन लेने से  मसल्स मज़बूत होंगी और उन पर अच्छा असर पडेगा।

2. बॉडी की ग्रोथ 

व्हे प्रोटीन बॉडी की ग्रोथ के लिए सर्वोत्तम होते हैं। शरीर की ग्रोथ के लिए अमीनो एसिड्स बेहद जरूरी होता है।  अगर अमीनो एसिड्स की कमी शरीर में होती है तो शरीर की ग्रोथ कभी भी ठीक तरह से नहीं हो पाती। व्हे प्रोटीन में अमीनो एसिड्स अच्छी मात्रा में मौजूद होता है और इसके उपयोग से बॉडी में अमीनो एसिड्स की कमी नहीं होने पात। एमिनो एसिड के लगातार इन्टेक से बॉडी की ग्रोथ अच्छी होती है। 

3. मसल्स की रिकवरी 

एक्सरसाइज करने के बाद व्हे प्रोटीन पीने की सलाह भी दी जाती है। असल में इसे पीने से मांसपेशियां जल्द रिकवरी कर लेती हैं। इसलिए एक्सरसाइज के बाद इसको ज़रूर पीना चाहिए। इसके अलावा व्हे प्रोटीन आसानी से और जल्दी हज़म भी हो जाता है।

4. शुगर पेशेंट्स के लिए व्हे प्रोटीन के फायदे 

व्हे प्रोटीन शुगर पेशेंट्स के लिए बहुत फायदे के होते हैं। टाइप-2 डायबिटीज के लिए व्हे प्रोटीन बेहद उत्तम है और इसे पीने से मरीज़ को बहुत फायदा पहुंचता है। साथ ही व्हे प्रोटीन का प्रयोग डायबिटीज की मेडिसिन को बनाने में भी किया जाता है।  

व्हे प्रोटीन के सेवन से इंसुलिन के लेवल को बढ़ाने और ब्लड शुगर को कम करने में मदद मिलती है. इससे शरीर में कार्ब्स और फैट बिल्कुल नहीं जाता, जो डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद है। इसलिए उन्हें इसका उपयोग ज़रूर करना चाहिए। 

5. डाइजेस्ट करना आसान 

व्हे प्रोटीन को डाइजेस्ट करना काफी आसान है।  इसके सेवन से डाइजेस्टिव सिस्टम बिलकुल ठीक रहता है।  व्हे प्रोटीन नेचुरल तरीके से इंफ्लेमेशन को कम करता है। आपको इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। 

6. कोलेस्ट्रॉल भी कंट्रोल 

व्हे प्रोटीन के इस्तेमाल से कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में मदद मिलती है।  इससे एलडीएल का स्तर भी कम होता है। व्हे प्रोटीन के सेवन से बच्चों में अस्थमा की समस्या को कम किया जा सकता है और इससे इम्युनिटी भी मजबूत होती है।  

7. मेन्टल स्ट्रेस दूर  

व्हे प्रोटीन में ट्रिप्टोफैन नाम का एक एलिमेंट होता है, जिससे नींद अच्छी आती है। व्हे प्रोटीन के सेवन से मेन्टल स्ट्रेस भी दूर होता है।  इससे मस्तिष्क को कूल करने और सेरोटोनिन के निर्माण में मदद मिलती है। सेरोटोनिन बढ़ने से तनाव भी दूर होता है।

8. आई बी एस और सूजन में सहायक 

सूजन एक सीरियस प्रॉब्लम है और वो अगर पुरानी हो तो उसको और भी ज़्यादा खतरनाक माना जाता है। व्हे प्रोटीन को क्रोहन्स और कोलाइटिस जैसी बीमारियों से लड़ने में अहम माना जाता है. इसके सेवन से इंफ्लेमेशन की समस्या कम हो जाती है।  इससे इनर वीकनेस पर भी काबू पाया जा सकता है। पेट की स्वाभाविक सूजन को कम करने के लिए भी इसका सेवन करना चाहिए।

9. बालों का झड़ना  

आपके बालों के लगातार झड़ने का एक मुख्य कारण सिर की त्वचा यानी अस्वस्थ स्कैल्प हो सकती है। इसकी वजह विटामिन-ए, सी और विटामिन-ई की कमी हो सकती है। लेकिन व्हे प्रोटीन के ज़रिये इन सभी विटामिनों को पूरा किया जा सकता है। इसलिए स्कैल्प को हेल्दी  बनाए रखने के लिए आप एक गिलास दूध में एक चम्मच व्हे प्रोटीन पाउडर मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं।

10. वज़न कम करने में सहायक   

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो व्हे प्रोटीन का सेवन कर सकते हैं। इससे ना केवल बॉडी में प्रोटीन की कमी पूरी होती है, बल्कि इससे वजन घटाने के प्रोसेस को भी आसान बनाया जा सकता है। आपको बता दें कि व्हे प्रोटीन में कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है और इससे मेटाबोलिक एक्टिविटीज को भी इनकरेजमेन्ट मिलता है।

11. लीवर का बचाव 

लीवर बॉडी का एक बहुत ही महत्वपूर्ण पार्ट होता है। इसलिए इसे हेल्दी रखने में भी व्हे प्रोटीन के फायदे मिल सकते हैं।  व्हे प्रोटीन में बीटा-लैक्टोग्लोबुलिन और अल्फा-लैक्टाल्बुमिन पाए जाते हैं, जो आपके लीवर को खराब होने से बचाने में बहुत सहायक होते हैं। यही नहीं प्रोटीन के ये दोनों प्रकार ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस के असर को कम करके लीवर में सूजन के लेवल को भी कम कर सकते हैं।

12. हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करना 

व्हे प्रोटीन के फायदे हाई बीपी में भी होते हैं। हाई ब्लड प्रेशर के मरीज़ों को व्हे प्रोटीन का सेवन ज़रूर करना चाहिए।  व्हे प्रोटीन को खाने से हाई ब्लड प्रेशर में कमी आती है। इसकी वजह ये है कि इसमें बायो एक्टिव पेप्टाइड होता है जो कि उच्च रक्तचाप को संतुलित करने का काम करता है। व्हे प्रोटीन का सेवन शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए भी किया जाता है। एक रिसर्च में ये पाया गया है कि व्हे प्रोटीन से दिल की बीमारियों का खतरा और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। 

व्हे प्रोटीन के प्रकार

व्हे प्रोटीन तीन प्रकार के होते हैं। जिनको कंसंट्रेट (Concentrate), आइसोलेट (Isolate) और हाइड्रलाइज्ड  (Hydrolyzed) के नाम से जाना जाता है।

कंसंट्रेट :- इस प्रकार के व्हे प्रोटीन में प्रोटीन की मात्रा 25% से लेकर 80% तक होती है। ज़्यादातर लोग इसी प्रोटीन का सेवन करते हैं। 

आइसोलेट :- आइसोलेट प्रोटीन में प्रोटीन की मात्रा 90 से  95% होती है। इसका सेवन मसल्स को मज़बूत बनता है। 

हाइड्रालाइज्ड :- ये तीसरी तरह का व्हे प्रोटीन है और यह अन्य दो प्रोटीनों से अधिक क़ीमती भी है। इसमें प्रोटीन की मात्रा 100% पाई जाती है। जो अपनी मसल्स या बॉडी जल्दी बनाना चाहते हैं वो इसी प्रोटीन का उपयोग करते हैं।

व्हे प्रोटीन की न्यूट्रिशनल  वैल्यू

व्हे प्रोटीन में बहुत से नुट्रिएंट्स पाए जाते हैं। आइये जानते हैं 100 ग्राम व्हे प्रोटीन में मिलने वाले नुट्रिएंट्स के बारे में 

================================================================

पोषक तत्व                                                 मात्रा

================================================================

प्रोटीन                                                           58.14 g 

—————————————————————————————————————-

एनर्जी                                                           359 Kcal 

—————————————————————————————————————-

फैट                                                             1.16 g 

—————————————————————————————————————-

कोलेस्ट्रॉल                                               12 mg 

—————————————————————————————————————-

कार्बोहाइड्रेट                                             29.07 g 

—————————————————————————————————————-

                                                           विटामिन्स

================================================================

विटामिन ए                                               2907 IU 

—————————————————————————————————————-

विटामिन बी                                                      123.49 mg

—————————————————————————————————————-

विटामिन ई                                             7.85 mg 

—————————————————————————————————————-

विटामिन के                                             46.5 mg 

—————————————————————————————————————-

फोलेट्स                                                             395 mg 

—————————————————————————————————————-

विटामिन बी-6                                             1.163 mg 

—————————————————————————————————————-

                                                         मिनरल्स

================================================================

आयरन                                                           1.26 mg 

—————————————————————————————————————-

कैल्शियम                                             698 mg 

—————————————————————————————————————-

मैग्नीशियम                                             233 mg 

—————————————————————————————————————–

जिंक                                                           8.72 mg 

—————————————————————————————————————–

मैंगनीज                                                         233 mg 

—————————————————————————————————————–

फॉस्फोरस                                             581 mg 

—————————————————————————————————————–

                                                              लिपिड

================================================================

कोलेस्ट्रॉल                                               12 g 

—————————————————————————————————————–

फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड                   0.581 g 

================================================================

व्हे प्रोटीन का सेवन 

व्हे प्रोटीन को दूध से बनें किसी भी प्रोडक्ट के साथ आप ले सकते हैं। इसे गुनगुने दूध, हेल्दी दही या मिल्क शेक में मिला कर भी पिया जा सकता है।  

मिल्क शेक में व्हे प्रोटीन डालें और इसे अच्छी तरह से मिक्स करलें और फिर इसको पियें। 

कब पियें 

क्या आपको एक्सरसाइज से पहले या एक्सरसाइज के बाद व्हे प्रोटीन पीना चाहिए ? जी हाँ , आप इसको एक्सरसाइज से पहले और बाद में भी पी सकते हैं।  व्हे प्रोटीन पर की गई एक रिसर्च  में पाया गया है कि एक्सरसाइज के पहले या बाद में व्हे प्रोटीन लेने से बॉडी पर एक सा इफ़ेक्ट  होता है। इसलिए आप दोनों ही तरह से  इसे ले सकते हैं। हालांकि ज़्यादातर इसे एक्सरसाइज  के बाद ही पीना पसंद करते हैं।

याद रखें 

अगर आप व्हे प्रोटीन लेना शुरू कर रहे हैं तो उससे पहले डॉक्टर से बात ज़रूर करें। किसी एक्सपर्ट या डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसका सेवन शुरू करें। 

अच्छी और रेपुटेड कंपनी के व्हे प्रोटीन को ही इस्तेमाल करें। 

कभी भी बहुत ज़्यादा मात्रा में व्हे प्रोटीन का सेवन ना करें।   

 कन्क्लूजन  

अब आप व्हे प्रोटीन के फायदे तो समझ ही गए होंगे। हर किसी की ये चाहत होती है कि उसकी बॉडी हेल्दी और मजबूत हो और इसके लिए आप सब नए नए तरीके ढूंढते हैं। लेकिन व्हे प्रोटीन एक ऐसा प्रोटीन है जिसमें आपको हेल्दी बनाये रखने की तमाम क्वालिटीज़ मौजूद हैं। जैसे मसल्स को मज़बूत बनाना , बॉडी की ग्रोथ , डाईबेटीज़ में फायदेमंद , कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करना , डाइजेस्ट करने में आसान , मेन्टल स्ट्रेस  को दूर करने के साथ साथ वज़न को कम करने या बढ़ाने में भी ये सहायक होते हैं। इसके अलावा हाई बीपी और लीवर की खराबी को भी व्हे प्रोटीन कंट्रोल करते हैं। इस तरह आप कह सकते हैं कि व्हे प्रोटीन एक कम्प्लीट ड्रिंक है जिसमें बेशुमार फायदे मौजूद हैं।   

Read these next